वो आँगन की भुरभुरी सी सूखी मिट्टी…

Share

वो आँगन की भुरभुरी सी सूखी मिट्टी,

वो फर्श पर पड़ी धूल पे चंद पाँव के निशान,

वो अखबार के कुछ फड़फड़ाते बिखरे पन्ने..

वो डाइनिंग टेबल पर पड़े
चाय के दो खाली प्यासे प्याले..

वो चादर पर पड़ी चंद सिलवटें…

वो बिस्तर में पड़ा मासूम गीला तौलिया…

वो इन्तज़ार करती उल्टी भीगी छतरी

वो खामोश दाल की काली पतीली

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

सब बाई के छुट्टी करने की निशानी है

(हमेशा ही गुलज़ार की शायरी नहीं होती) 😜😜😜

Share

clerk के दिमाग का कमाल देखिये …

Share

ठेकेदार से ‘बात’ हो जाने पर, clerk ने साहब को बता कर फाइल रखी, साहब ने लिखा “Approved”
…दो दिन बाद, ठेकेदार वादे से मुकर गया….
clerk ने साहब को बताया, साहब बोले-अब क्या करें?
clerk के दिमाग का कमाल देखिये—clerk ने कहा-सर, Approved के पहले Not शब्द लिख दीजिए…
“Not Approved”
अब ठेकेदार परेशान😩।
..फिर clerk से मिलकर ‘बात’ बनाई…
clerk ने फिर साहब के सामने फाइल लेकर पहुंचा….
साहब झल्लाये…..अब क्या करें? फिर clerk के दिमाग का कमाल देखिये…..clerk ने कहा, सर, Not में केवल e: लगा दें ,अर्थात…..
‘Note: Approved’
आप ही बताइए कौन देश चला रहा है?

Share

अलमारी से मिले हुए बचपन के खिलौने …

Share

अलमारी से मिले हुए बचपन के खिलौने मेरी आँखों की उदासी देख कर बोले, “तुम्हें ही बहुत शौक था बड़ा होने का”
🤡🤡

Share

जिन्दगी किसी का इंतज़ार नही करती ,

Share

🌹लोगों को समझने की कोशिश कीजिये ,जिन्दगी किसी का इंतज़ार नही करती ,
❣लोगों को एहसास कराइए की वो आप के लिए कितने खास है सर…❣

Goodwala morningji

Share